अमेरिका की स्टार्टअप इकॉनमी को चार चांद लगाते हें भारतीय

प्रवासियों को लेकर अमेरिका की ट्रंप सरकार की सोच बेशक अलग हो लेकिन अमेरिकी अर्थव्यवस्था में उनका खास रोल है. अमेरिका की स्टार्टअप अर्थव्यवस्था में दूसरे मुल्कों से आकर बसे अप्रवासियों का विशेष सहयोग है. खासकर भारतीय पूरी दुनिया में इस मामले में सबसे आगे हैं. अमेरिका की स्टार्टअप अर्थव्यवस्था में भारतीय अप्रवासियों का सबसे बड़ा सहयोग है. अमेरिका में भारतीयों के जरिए चलाए जा रहे स्टार्टअप की कुल वैल्यू 14 अरब डॉलर है. ये वैल्यू दुनिया के किसी भी देश की तुलना में सबसे ज्यादा है. अमेरिका की स्टार्टअप अर्थव्यवस्था में दूसरे नंबर पर कनाडा के अप्रवासी आते हैं. उनके कुल स्टार्टअप की वैल्यू 8 अरब डॉलर है. अमेरिकी स्टार्टअप अर्थव्यवस्था में छठवें स्थान पर चीनी अप्रवासियों का नाम आता है. भारत के पड़ोसी मुल्क चीन के मूल निवासी हैं. जो अमेरिका में कुल 3 अरब डॉलर के स्टार्टअप चला रहे हैं. अमेरिकी इकॉनमी में योगदान देने वाले बाकी सभी मुल्कों से आने वाले अप्रवासियों के स्टार्टअप की वैल्यू 2 अरब डॉलर है.

Related posts

Leave a Comment