जनपद में एनजीटी के नियमों का उल्लघंन करने पर 14 और लोगो को जुर्माने का नोटिस जारी।

नॉएडा व्यूज : जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर ब्रजेश नारायण सिंह के निर्देशन में एनजीटी के नियमों का पालन सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से विभागीय अधिकारियों के द्वारा अपने अपने स्तर पर कार्यवाही की जा रही है ताकि पूरे जनपद में एनजीटी के नियमों का पालन सुनिश्चित हो सके। इसी क्रम में नगर मजिस्ट्रेट नोएडा के द्वारा 14 संस्थाओं को क्षेत्रीय प्रदूषण विभाग की रिपोर्ट के आधार पर जुर्माना लगाया।, जिसमें 4 संस्थाआंे को 20-20 हजार रूपये के नोटिस जारी किए हैं, और 1 सप्ताह के अंदर जवाब तलब किया गया है। अन्यथा की दशा में संबंधित फर्मों के माध्यम से जुर्मानें की राशि वसूलने की कार्यवाही की जाएगी। नगर मजिस्ट्रेट के द्वारा जिन संस्थाआंे पर जुर्माना लगाया गया है, उसमें  स्वामी आवासीय भूखण्ड संख्या सी-11 सैक्टर 19 नोएडा, स्वामी प्लाॅट नं0-ए 65 सैक्टर 4 नोएडा, स्वामी प्लाॅट नं0-बी 56 सैक्टर 6(मै0 डैश फैशन) नोएडा, स्वामी प्लाॅट नं0-बी 153 सैक्टर 6 नोएडा सम्मलित है।

इसी प्रकार नगर मजिस्ट्रेट के द्वारा 4 संस्थाआंे को 25-25 हजार रूपये के नोटिस जारी किये है। जिसमें प्रबन्धक/स्वामी मैसर्स माहले बेहर इण्डिया प्रा0लि0(पूर्व नाम मैसर्स डेल्फी आॅटोमोटिव सिस्टम प्रा0लि0) प्लाॅट नं0 3 सैक्टर 41 ग्रेटर नोएडा, स्वामी प्लाॅट नं0 ई-85 साइट बी ओद्योगिक क्षेत्र सूरजपुर ग्रेटर नोएडा, प्रबन्धक/स्वामी मैसर्स रेडिश टेक्नोलाॅजीज प्लाॅट नं0 33 इकोटेक 1 ग्रेटर नोएडा, मै0 सर्वो फूड्स प्रा0लि0 प्लाॅट ई-65 साईट बी औद्योगिक क्षेत्र सूरजपुर ग्रेटर नोएडा सम्मलित है, तथा 3 संस्थाआंे को 50-50 हजार रूपये के नोटिस जारी किये जिसमें मै0 ओम कमल रेडीमिक्स कंक्रीट प्रा0लि0 प्लाॅट नं0 519 उद्योेग केन्द्र विस्तार 2 इकोटेक 3 ग्रेटर नोेएडा, भवन स्वामी एफ-8 सैक्टर 27(सब माल सैक्टर 18 के पीछे नोएडा), स्वामी प्लाट नं0 224 से 228 नाॅलेज पार्क 5 ग्रेटर नोएडा सम्मलित है। इसी के साथ साथ नगर मजिस्ट्रेट के द्वारा 2 संस्था मै0 नव दुर्गा आरएमसी प्लान्ट ग्राम पतवाडी ग्रेटर नोएडा व मैसर्स मोबेस इण्डिया प्रा0लि0(पूर्व नाम डीएनआई टेक कम्पोनेट प्रा0लि0) प्लाट नं0 1सी इकोटेक 2 ग्रेटर नोएडा को 1-1 लाख रूपये के नोटिस तथा 1 संस्था मै0 लोटस इसले ग्रीन सैक्टर 98 नोएडा को 5 लाख रूपये का नोटिस जारी किया है।

नगर मजिस्ट्रेट के द्वारा यह सभी नोटिस संबंधित फर्मों को एनजीटी के नियमों का उल्लंघन करने पर क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी की रिपोर्ट पर जारी किए गए है। उन्होंने बताया कि यदि 1 सप्ताह के भीतर संबंधित व्यक्ति एवं फर्मों के माध्यम से रिपोर्ट प्राप्त नहीं होती है तो उनके विरूद्ध वसूली की कार्यवाही की जाएगी।

Related posts

Leave a Comment