भारत मे जनसंख्या तीव्रता का विस्फोट- रोक कैसे ?

आज हमारा देश इस समय कई समस्याओं से जूझ रहा है। अगरहम गौर करें तो पायेंगे कि जनसंख्या में वृद्धि इन सभी समस्याओं का मूल कारण है। बेरोजगारी हो या भ्रष्टाचार,अराजकता हो या आतंकवाद, निरक्षरता हो या फिर सामाजिक समस्यायें- हाँ जनसंख्या कम होने पर यह स्वमेव हल हो जायेंगी।

भारत की जनसंख्या में तीव्रता से वृद्धि होने के कारण आज हमारा देश एक अरब और तीस करोड़ से अधिक के आंकड़े को पार कर गया है। विश्व में दूसरे स्थान पर है। इस के अलावा यहाँ हम कोई और आंकड़े नहीं दे रहे हैं ।

जनसंख्या में होने वाली इस बेहिसाब वृद्धि के पीछे कई कारण हैं। हमारे यहाँ शिक्षा का अभाव है। लोग अज्ञानतावश परिवार नियोजन का महत्व नहीं समझ पाते। आज चिकित्सा तथा स्वास्थ्य सुविधाओं में लगातार सुधार हुआ है एवं शिशु मृत्यदर में कमी आयी है। उससे भी जनसंख्या में वृद्धि हुई है। भारत मेंवाल विवाह होते हैं। यहाँ की जलवायु गर्म है व प्रजनन के अनुकूल हैं। हमारे यहाँ विवाह करना भी जरूरी समझा जाता है। परिवार में लड़का होना जरूरी समझने के कारण लड़कियों की लाइन लगा दी जाती है। इन सभी कारणों से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है।

जनसंख्या वृ​द्धि के कारण आज स्वतंत्रता प्राप्ति के 70 दशक के बाद भी भारत की बहुत अधिक जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे है। उन्नति एवं देश के विकास का पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा। निरक्षरता एवं कुपोषण की समस्या से छुटकारा नहीं मिल राह। भुखमरी, निर्धनता, बेकारी, भिक्षावृत्ति तथा अन्य सामाजिक व आर्थिक बुराईयों से छुटकारा तभी मिलेगा जब हम अपनी जनसंख्या पर नियंत्रण रखेंगे, अन्यथा हम विकास एवं प्रगति से होने वाले लाभों से वंचित रह जायेंगे।

जनसंख्या पर नियंत्रण के लिये परिवार नियोजन के कार्यक्रमों का प्रचार प्रसार करना होगा, उन्हें लोकप्रिय बनाना होगा,जनसाधारण में लड़के का मोह हटाना होगा और आम जनता को शिक्षित बनाना होगा। सरकार को कम संतान उत्पन्न करने वाले दम्पतियों को सम्मानित करना चाहिए या कोई पुरस्कार देना चाहिए जिससे लोग प्रोत्साहित होकर संतान उत्पत्ति में कमी लाएँ।

इन सब के लिए अब हमारी सरकार को दो बच्चों की पॉलिसी पर कोई एक बिल संसद में अगले सत्र में पेश करना चाहिए और लोक सभा एवं राज्य सभा में इस बिल को मंजूर करवाना होगा।

अगला सत्र में अभी कम से कम 4-5 माह का समय है, इसके प्रचार के लिए इतना समय सरकारी तंत्र के लिए बहुत होता है । जनता की राय बहुत आवश्यक होती है । आज के समय में सोशल मीडिया को जनसंख्या नियंत्रण के लिये सरकार के साथ मिलकर व स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से पूरे देश में इस का प्रचार करना होगा और आम जनता को इस अभियान में पूर्ण सहयोग देना चाहिये।  एक बहुत बड़ी समस्या जो भविष्य में आने वाली है उससे हम सभी को  सावधान / जागरूक रहना होगा ।

अनुज भार्गव

पूर्व मौसम वैज्ञानिक,भारत सरकार

Related posts

Leave a Comment