महान क्रांतिकारी धन सिंह को किया याद

दिनांक 10/05/2019 को सेक्टर बीटा 1 के कम्युनिटी सेंटर मे 10 मई 1857 के महान क्रांतिकारी धन सिंह कोतवाल जी की याद में एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया | यह आयोजन अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा के द्वारा किया गया जिसकी अध्यक्षता राजकुमार भाटी जी, संचालन श्याम सिंह भाटी व आलोक नागर ने किया | इस मौके पर राजकुमार भाटी ने बताया की क्रांति दिवस 10 मई एक बार फिर आ गया है हजारो साल की गुलामी के बाद भारत के लोगों ने इस महान दिवस में आजादी के…

Read More

कब तक A/C के सहारे गर्मी से बचेंगे ?

ग्रेटर नोएडा।टीकम सिंह: आजकल लोगों को लग रहा है कि गर्मी बहुत लग रही है। पर कब तक AC का सहारा लेंगे, आज हिन्दुस्तान में 500 करोड़ पेड़ की ज़रूरत है। अभी तो यह शुरुआत हैं। 45 से 49 डिग्री को 55 से 60 होने में देर नहीं लगेगी। अभी से समझकर पौधे लगाने होंगे क्योंकि एक पौधे को बड़ा होने मे 5 से 7 साल लग जाएंगे। अब बारिश आने वाली हैं दो पेड़ ज़रूर लगाएं। सब कुछ सरकार पर मत छोडिये।

Read More

किसान परिवार से चिकित्सा के क्षेत्र में उभरती हुई प्रतिभा को करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने किया सम्मानित

दनकौर- सोमवार को करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कार्यकर्ताओं ने जिला सरंक्षक संजय भैया के नेतृत्व में दनकौर ब्लॉक के जुनेदपुर गाँव मे चिकित्सा के क्षेत्र में अलग मुकाम हासिल करने वाले डॉ कुलदीप नागर को ट्रॉफी व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौ. प्रवीण भारतीय ने बताया कि जुनेदपुर गांव के किसान फिरेराम सिंह नागर के बडे बेटे 2017 में लखनऊ से एम.एम.बी.एस. की पढ़ाई पूरी करने वाले डॉ कुलदीप नागर ने उसके बाद भी नीट-पीजी की तैयारी की व उसमे भी सफलता…

Read More

जलियावाला बाग की 100वीं बरसी पर नेताओ ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि

अमृतसर : आज जालियांवाला बाग की 100वीं बरसी पर देश शहीदों को नमन कर रहा है| शहीदो को श्रद्धांजलि देने के लिए आज जालियांवाला बाग में एक कार्यकर्म का भी आयोजन किया गया है | वर्ष 1919 में अमृतसर में हुए इस नरसंहार में हजारों लोग मारे गए थे लेकिन ब्रिटिश सरकार के आंकड़ें में सिर्फ 379 की हत्या दर्ज की गई है.ब्रिटिश सरकार ने इस हत्याकांड में अब तक माफी नहीं मांगी है| हालांकि जब डेविड कैमरन ब्रिटेन के प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने इस घटना पर खेद प्रकट किया…

Read More

भगत सिंह को शरण दे कर धन्य हो गई गौतम बुध नगर की भूमि

उन्हें यह फ़िक्र है हरदम, नयी तर्ज़-ए-ज़फ़ा क्या है? हमें यह शौक है देखें, सितम की इन्तहा क्या है? “अब तो मर कर ही ये उल्फत जाएगी मेरी मिट्टी से खुशबू -ए – वतन आएगी” गौतम बुध नगर की भूमि धन्य हो गई भारत माता के अमर सपूत शहीदे आजम भगत सिंह को शरण देकर | बात उस जमाने की है जब यमुना नदी आज के उत्तर प्रदेश और तब के “संयुक्त_प्रांत” तथा आज के हरियाणा तब के “पंजाब” राज्य को विभाजित करती थी | गौतम बुध नगर से प्रवाहित…

Read More