Breaking News
Home / संपादकीय

संपादकीय

मनरेगा की स्थिति

केंद्र सरकार की मजदूरों को काम उपलब्ध कराने की व्यवस्था नाकाफी साबित होने लगी है. प्रवासी मजदूरों के लिए अब गांवों में काम का अभाव पैदा होने लगा है. महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार मनरेगा के तहत ग्रामीण मजदूर 100 दिनों का काम पाने के हकदार हैं. इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र …

Read More »

अमरता, सशर्त मिलती है।

आर्य सागर खारी : इंसान सदियों से अमर होना चाहता है। बुढ़ापा, मृत्यु से छुटकारा पाना चाहता है. क्या यह संभव है? मृत्यु से बचने के लिए अंतिम सांस तक मशक्कत करता है इंसान फिर भी मृत्यु तो अटल है. इंसान की यह जन्मजात स्वाभाविक इच्छा पूरी हो ना हो …

Read More »

लॉकडाउन के इफ़ेक्ट अब मीडिया हाउस पर दिखने शुरू, तालाबंदी होने लगी है।

ग्रेटर नॉएडा : कोरोना के इफ़ेक्ट अब मीडिया हाउस पर भी देखने लगे है. पत्रकार नौकरियां खो रहे हैं। एक दिन आप चैनल देखते हैं और अगले दिन आप सुनेंगे कि उसने संचालन बंद कर दिया है। देश के प्रधानमंत्री भी मीडिया के लोगों को कोरोना योद्धाओं की उपाधि देते …

Read More »

तिब्बत का मानचित्रकार

आर्य सागर खारी : आर्यों की आदि भूमि तिब्बत आर्यव्रत की सीमाओं का पूर्वी बिंदु था। जिसे दुनिया की छत ,पश्चिम जिसे फोर्बिडन कंट्री कहता था। बर्मा का प्राचीन नाम ब्रह्मर्षि देश था, तो तिब्बत का भी प्राचीन नाम बहुत ही खूबसूरत त्रिविष्टप था। अग्नि वायु आदित्य जैसे ऋषियों ने …

Read More »

महाविनाश जो सूचना प्रसारण मंत्रालय को नहीं दिख रहा।

आर्य सागर खारी : 13 साल पहले सुपर पावर अमेरिका में इंटरनेट टीवी का दौर आया. नेटफ्लिक्स Amazon Prime जैसी कंपनियों ने वीडियो ऑन डिमांड सेवाएं दी. वेब सीरीज चली. बगैर सेंसरशिप के मनोरंजन का नतीजा आज पूरा अमेरिका भुगत रहा है अधिकतर समाज उच्छृंख, हिंसक हो गया है. यह …

Read More »

वो सुबह कभी तो आएगी

तू होती तो ऐसा होता तू होती तो वैसा होता| मैं और मेरा घर तुझको याद करता है| तेरे बिना मेरा घर अब सूना लगता है | जब तू आती थी मन खिल उठता था| जब तू छुट्टी की बात करती थी मेरे दिल को चोट लगती थी|याद है मुझे …

Read More »

अदृश्य कलाकार की कलाकारी, कंकाल तंत्र।

बनाया है जिसने यह संसार सारा | वही एक सच्चा शाखा है हमारा| सदा उस विधाता के कर्मों को देखो , किया जिसने सारे जगत का पसारा | बनाया है जिसने यह संसार सारा…! विधाता ईश्वर की कलाकारी को देखने के लिए ज्यादा दूर जाने की आवश्यकता नहीं है एकांत …

Read More »

परदेश (प्रवास) की कमाई से चलते घर

मेरे परबाबा तीन भाई थे। उनमें से एक रंगून (म्यांमार) कमाने गये थे। उन दिनों बर्मा भारत से अलग नहीं था। 1937 से पूर्व किसी समय वह वापस आ गये तो फिर कभी कहीं नहीं गये। मेरे बाबा चार भाई थे। उनमें से तीन हैदराबाद, सिंध, पाकिस्तान कमाने गये। 1947 …

Read More »

लॉक डाउन के होने से ,वनस्पतियों में शांति।

आर्य सागर खारी : लोक डाउन के चलते पिछले 2 महीने से बड़ी छोटी तमाम औद्योगिक इकाइयां बंद है| नतीजा वातावरण में CO2 ,no2 सहित तमाम प्रदूषण कारक गैसे की सांद्रता में कमी आई है वातावरण शुद्ध हुआ है इसका शीतल सकारात्मक प्रभाव फल सब्जी वनस्पति पर पड़ा है। इस …

Read More »

सकारत्मक सोच

हम सभी जानते हैं की हमारा जीवन कितना बहुमूल्य है इसको सुखमय बनाने के लिए हम सभी प्रयत्न करते हैं और सभी अपने अपने तरीकों से इसको सुखमय बनाने का प्रयास करते हैं जैसे कोई मंदिर, मस्जिद और गुरुदवारा जाकर प्रार्थना और दुआएं करते हैं वहीँ कुछ लोग धन अर्जित …

Read More »