करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने की किसानों के लिए यमुना एक्सप्रेस वे को टोल फ्री करने की मांग –

जेवर– भारत एक कृषि प्रधान देश होने के बावजूद यहां किसानों का शोषण किया जा रहा है। इसी सम्बन्ध में बुधवार को करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा जिलाध्यक्ष मा. दिनेश नागर के नेतृत्व में जेवर स्थित उपजिलाधिकारी कार्यालय पर स्थानीय किसानों को आई डी के आधार पर टोल फ्री कराने की मांग को लेकर उपजिलाधिकारी के नाम ज्ञापन तहसीलदार राकेश कुमार जयंत को सौपा।
करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौ.प्रवीण भारतीय ने बताया कि भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है। भारत के किसान के द्वारा पैदा की गई फसलों का मूल्य निर्धारण भी केंद्र व राज्य सरकार द्वारा ही तय किया जाता है और न ही किसानों को उनकी फसलों पर कोई अन्य टैक्स या सुविधा मिलती है । प्रवीण भारतीय ने बताया कि यहां किसानों की जमीन का अधिग्रहण प्राधिकरण व राज्य सरकार द्वारा किया गया है।जिससे प्राइवेट संस्थाएं मोटा मुनाफा कमा रहे है। इसी के अंतर्गत यमुना एक्सप्रेस वे स्थानीय किसानों की जमीन पर बना हुआ है ।जबकि किसानों को इसका कोई लाभ नही दिया जा रहा है।किसानों से टोल टैक्स के नाम पर रोजाना लाखो रुपये की लूट की जा रही है। इसलिए करप्शन फ्री इंडिया संगठन द्वारा आज उपजिलाधिकारी के नाम सम्बोधित ज्ञापन तहसीलदार को सौपकर मांग की कि गौतम बुद्ध नगर के स्थानीय किसानों को आई. डी. के माध्यम से टोल से मुक्ति दी जाये। अगर 15 दिन में टोल फ्री नही किया गया तो करप्शन फ़्री इंडिया संगठन एक बहुत बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होगा।प्रवीण भारतीय ने कहा की किसानों को 10% प्लाट,64 % मुवावजा व किसानों के बेटे को नॉकरी में लाभ दिया जाए व किसान कोटे के तहत शिक्षा व स्वास्थ्य में आरक्षण के तहत किसानों को अस्पतालों व शिक्षण संस्थाओं में लाभ दिया जाए।
इस दौरान जिलाध्यक्ष मा. दिनेश नागर, जिला सरंक्षक संजय भैया, तहसील अध्यक्ष हरेन्द्र कसाना, दिनेश एडवोकेट, अजय रावल एडवोकेट, राकेश नागर, आदेश नागर,राहुल शर्मा,रजित कुमार, ललित कुमार,मनोज,सरजीत आदि लोग मौजूद रहे।

Related posts

Leave a Comment