ग्रेटर नोएडा। कपिल चौधरी

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण पर करीब पिछले 45 दिनों से धरना दे रहे किसानों को मंगलवार शाम को पुलिस ने हिरासत में लेकर हटा दिया था। जिसमें पुलिस किसानों को गिरफ्तार कर सूरजपुर स्थित पुलिस लाइन में ले गई थी। जिसके बाद गिरफ्तार किसानों के समर्थन में सैकड़ों किसान अपनी गिरफ्तारी देने के लिए सूरजपुर पुलिस लाइन पहुंच गए। जिसके बाद पुलिस और किसानों के बीच नोकझोंक हुई और पुलिस ने किसानों को काबू में करने के लिए हल्का लाठीचार्ज किया। आक्रोशित किसानों का बुधवार सुबह एक बार फिर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ इकट्ठा होना शुरू हो गए। दोपहर होते-होते दोबारा अपने पुराने धरना स्थल पर पहुंचकर महापड़ाव शुरू कर दिया।

किसानों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होगी किसान प्राधिकरण के गेट से टस से मस नहीं होंगे। यह लड़ाई किसानों के अधिकारों की लड़ाई है हम प्राधिकरण और पुलिस प्रशासन की जोर-जबर्दस्ती के आगे झुकेंगे नहीं अपना हक लेकर रहेंगे। अब क्षेत्र के किसान और नौजवान जागरूक हो गए हैं। अपने हकों के लिए खड़े हो गए हैं सभी मुद्दों को हल करा कर ही घर लौटेंगे।

किसानों की प्रमुख मांगे

10 पर्सेंट आबादी प्लॉट, सर्किल रेट का 4 गुना मुआवजा, भूमिहीनों के लिए 40 मीटर का प्लॉट, रोजगार, आबादी लीजबैक आदि किसानों के प्रमुख मुद्दे हैं। जिनके लिए किसान लगभग पौने 2 महीने से दिन-रात प्राधिकरण के गेट पर जमे हुए हैं।

Leave a Reply