एक्वा मेट्रो की 11 किलोमीटर लिंक लाइन बनाने का रास्ता साफ, 10 लाख यात्रियों को होगी सुविधा

 एक्वा मेट्रो की 11 किलोमीटर लिंक लाइन बनाने का रास्ता साफ, 10 लाख यात्रियों को होगी सुविधा

नोएडा। नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच करीब 30 किलोमीटर तक संचालित होने वाली नोएडा मेट्रो रेल कारपोरेशन (एनएमआरसी) की एक्वा लाइन मेट्रो की 11 किलोमीटर लंबी लिंक लाइन को बिछाने का रास्ता साफ हो गया है। लंबे समय से एनएमआरसी में रूट को लेकर चल रही कवायद अब समाप्त हो गई है।
पुराने रूट पर ही बिछाया जाएगा ट्रैक
एनएमआरसी प्रबंधन ने सेक्टर-142 से बोटेनिकल गार्डन तक लिंक लाइन को सीधे जोड़ने का निर्णय लिया है। इसका ट्रैक अब पुराने रूट पर ही बिछाया जाएगा। इस रूट की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) दिसंबर 2016 में दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) ने तैयार कर एनएमआरसी प्रबंधन को सौंपी थी, लेकिन अब प्रबंधन ने डीएमआरसी से छह वर्ष पहले तैयार डीपीआर को संशोधित कर देने को कहा है।
संशोधित डीपीआर आने के बाद प्रदेश सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। प्रबंधन के अनुसार, दिसंबर 2016 में जो डीपीआर बनाई गई थी, जिसमें नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे की सर्विस रोड के बगल खाली पड़ी ग्रीन बेल्ट पर एक्वा लाइन मेट्रो का रूट तैयार किया जाना प्रस्तावित किया गया है।
आठ स्टेशन होंगे तैयार
इस पर 2826 करोड़ रुपये खर्च करने का निर्णय लिया गया था। सेक्टर-142 से लेकर बोटेनिकल गार्डन तक आठ स्टेशन तैयार होंगे। इसमें केवल छह स्टेशनों को बनाया जाएगा। सेक्टर-44 के पास आकर एक्वा लाइन मेट्रो महामाया फ्लाईओवर के ऊपर से गुजारा जाएगा। इस जगह पर एक्वा लाइन मजेंटा लाइन के ऊपर से गुजारी जाएगी। जो रूट की सबसे ऊंची मेट्रो भी बन सकती है। यहां पर एक नया प्लेटफार्म तैयार होगा। जिस प्रकार से मजेंटा लाइन के लिए प्लेटफार्म बनाया गया है।

Noida Views

Leave a Reply

%d bloggers like this: