अस्माकम् ! देशस्य गंगा पवित्रतमा सरिता अस्ति।

 अस्माकम् ! देशस्य गंगा पवित्रतमा सरिता अस्ति।

लेखक – रामवीर तँवर, पौंड मैन

नदियों में गंगा श्रेष्ठ है यह मात्र एक नदी नहीं है बल्कि भारत का हृदय है। भारतीय नदियों में सबसे महत्वपूर्ण कल-कल करती अविरल गंगा नदी जिसका भारतिय संस्कृति में उच्चत्तम स्थान है, इसिलिए इसे मां का दर्जा दिया गया है। जिस नदी को देश नहीं बल्कि विदेशों में भी लोग पूजते है, उस गंगा के हालात एक समय में दयनीय थे। जिस गंगा नदी को सभी पूजते है लेकिन मां गंगा की पूजा के बाद उसी पूजा की सामाग्री हम नदी में बहा देते है, जिस नदी में डूबकी लगा हम पवित्र होते है उसी गंगा में कचरे को प्रवाह कर उसे दूषित करते है…हम भारतीयों का भी गंगा से ना जाने कैसा प्रेम है! लेकिन जैसा कि हम कहते है ऊपर वाला देखता है वैसे ही हमारी सरकार भी है वो सब जानती और देखती है।

मां गंगा की ऐसी स्थिति को देखते हुए केन्द्र सरकार ने जून 2014 में नमामि गंगे मिशन की शुरूआत की। नमामी गंगे कार्यक्रम एक एकीकृत संरक्षण मिशन है, इसका उद्देश्य गंगा में प्रदूषण के प्रभावी उन्मूलन और राष्ट्रीय गंगा नदी के संरक्षण और कायाकल्प के दोहरे उद्देश्यों की पूर्ति करना है। नमामि गंगे परियोजना के तहत परिकल्पित गतिविधियों को आयोजित करने के लिए स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षित और अत्यधिक प्रेरित किया गया। गंगा नदी के प्रदूषण को रोकने और इसके संरक्षण के उपायों के संबंध में स्थानीय युवाओं और ग्रामीणों के समर्थन को सक्रिय करना और सबको एक साथ लेकर आना कारगर साबित हुआ। नमामी गंगे प्रोजेक्ट के तहत स्वच्छ गंगा के लिए शौचालय निर्माण, जल संचयन, संरक्षण आदि से संबंधित मौजूदा सरकारी कार्यक्रमों, योजनाओं और सेवाओं के बारे में लोगों को जागरूक किया गया।
संयुक्त राष्ट्र द्वारा नमामि गंगे को दुनिया के शीर्ष 10 पारिस्थितिक तंत्र बहाली कार्यक्रमों में से एक के रूप में मान्यता प्राप्त करना, भारत में नदी कायाकल्प प्रयासों में एक ऐतिहासिक क्षण है। नमामि गंगे को दुनिया भर के 70 देशों में फैली ऐसी 150 से अधिक पहलों में से चुना गया था। 14 दिसंबर 2022 को विश्व बहाली दिवस पर मॉन्ट्रियल, कनाडा में जैव विविधता पर कन्वेंशन के लिए पार्टियों के 15वें सम्मेलन के दौरान घोषणा की गई थी। माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने अपने ‘मन की बात’ संबोधन के दौरान कहा कि यह मान्यता देश की “इच्छाशक्ति और अथक प्रयासों” का प्रमाण है और दुनिया को एक नया रास्ता दिखाती है।
यह मान्यता वास्तव में, गंगा नदी और उसकी सहायक नदियों को फिर से जीवंत करने के लिए नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत किए जा रहे ठोस प्रयासों के माध्यम से प्राप्त सफलता का एक वसीयतनामा है। स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए समग्र और एकीकृत दृष्टिकोण अपनाया गया। इसके बाद, जन गंगा (सार्वजनिक भागीदारी और लोगों-नदी कनेक्ट), ज्ञान गंगा (अनुसंधान और ज्ञान प्रबंधन) और अर्थ गंगा (आत्म-टिकाऊ आर्थिक मॉडल) सहित तीन और वर्टिकल जोड़े गए।
नमामि गंगे कार्यक्रम के शुभारंभ के बाद से, गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार हुआ है, जिसके परिणामस्वरूप नदी के जैव विविधता में सुधार हुआ है, जो गंगा के डॉल्फ़िन, हिलसा घड़ियाल, ऊदबिलाव आदि की बढ़ती संख्या से नज़र आता है। पिछले आठ वर्षों में, नमामि गंगे मिशन के तहत 5,283 एमएलडी उपचार क्षमता स्वीकृत की गई है, जिसके खिलाफ बेसिन के 97 शहरों में 1,904 एमएलडी शोधन क्षमता पहले ही सृजित की जा चुकी है। माननीय प्रधानमंत्री ने अपने मन की बात संबोधन में नमामि गंगे को मान्यता देने के लिए भारत के लोगों को श्रेय दिया और उन्हें “अभियान के लिए ऊर्जा का सबसे बड़ा स्रोत” कहा। प्रधान मंत्री ने राष्ट्रीय गंगा परिषद की पहली बैठक के दौरान 2019 में अर्थ गंगा अवधारणा पर चर्चा किया। “अर्थ गंगा” का केंद्रीय विचार “गंगा नदी पर बैंकिंग” के नारे के अनुरूप अर्थशास्त्र के पुल के माध्यम से लोगों और गंगा नदी को जोड़ रहा है। जन गंगा और अर्थ गंगा दोनों अब नमामि गंगे को जन आंदोलन में बदलने का इंजन बन गए हैं।
सरकार अपना काम कर रही है जिसमें जन योगदान भी शामिल है लेकिन इसे सीमित नहीं रखना है, खुद के साथ-साथ अपने आस पास के लोगों को भी जागरूक करें और गंगा के स्वच्छ, अविरल और निर्मल होने में सभी का योगदान अतिमहत्वपूर्ण है।

लेखक – रामवीर तँवर, पौंड मैन

Kapil Choudhary

Leave a Reply

%d bloggers like this: