विजय दिवस समारोह व् बेहतर कल के लिए ई सी एच एस सेमिनार

 विजय दिवस समारोह व् बेहतर कल के लिए ई सी एच एस सेमिनार

ग्रेटर नॉएडा के वाई एम् सी ए भवन में विजय दिवस समारोह एवं बेहतर कल के लिए ई सी एच एस सुविधाएँ पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया जिसमें बतौर मुख्य अतिथि कर्नल अशोक तारा वीर चक्र से सम्मानित व् श्री कुमार रण विजय सिंह, एस पी देहात उपस्थित रहे/ इस समारोह को स्प्रिच्वल लाइफ फाउंडेशन (SPRITUAL LIFE FOUNDATION) की परामर्श शाखा ने विजय दिवस के उपलक्ष में शहीदों के सम्मान एवं भूतपूर्व सैनिकों के कल्याण हेतु आयोजित किया था जिसका उद्देश्य वीर नारियों व् युद्ध विजेताओं को सम्मान देना एवं भूतपूर्व सैनिकों की मूलभूत सुविधा ई सी एच एस जैसी सरकारी सेवाओं से जाग्रत करना था. कर्नल डॉ जे पी सिंह जो इस संस्था क़े डायरेक्टर भी हैं वो और उनकी टीम इस क्षेत्र में काफी सक्रीय हैं और समय समय पर भूतपूर्व सैनिकों क़े कल्याण एवं सम्मान क़े प्रति लोगों को जागरूक करते हैं और उनकी ई सी एच एस सम्बंधित समस्याओं का निवारण करने में सहयोग करते हैं/ आज क़े इस समारोह में गौतम बुध नगर जिले की चार वीर नारियों,दो युद्ध विजेताओं को विशिष्ट अतिथि ब्रिगेडियर जोगिन्दर सिंह राजपूत ने शाल भेंट कर उन सबको सम्मानित करते हुए उन वीर सपूतों के सर्वोच्च बलिदान को याद किया और आह्वान किया कि भूतपूर्व सैनिकों का देश के विकास में काफी बड़ा योगदान रहता है और हमारी सरकार भूतपूर्व सैनिकों के सम्मान और कल्याण के लिए हमेशा से वचनबद्ध है/ इसके बाद श्रीमती अंजलि शिशोदिया ने मंच सञ्चालन के साथ साथ देशभक्ति व् वीर रस की कविताओं द्वारा शहीदों को श्रद्धांजलि देकर पूरे समारोह में जोश पैदा किया/ इसके बाद श्री कर्नल अशोक तारा वीर चक्र व् श्री रणविजय सिंह एस पी देहात ने पांच नॉएडा के समाज सेविओं को नॉएडा गौरव का अवार्ड देकर उनको सम्मानित किया और उनके किये कार्यों की सराहना की/ योगी महेश जो एक समाज सेवा से जुड़े हैं उन्होंने भी देश-भक्ति एवं वीर रस की गाथाएं गाकर दर्शकों को मनमुग्ध किया और बाद में स्कूल के बच्चों ने तबला वादन के साथ देश-भक्ति गीत गाकर शहीदों के नाम अपना आभार व्यक्त किया/ कर्नल अशोक तारा, वीर चक्र विजेता जो १९७१ भारत पाक युद्ध में अपने साहस, बहादुरी और कर्तव्य परायणता के लिए एक सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि बांग्लादेश के इतिहास में भी उनका नाम दर्ज है उन्होंने ने अपने भाषण में देश के सर्वांगीण विकास के लिए राष्ट्रवाद और देश-भक्ति की भावना को जनजन में जाग्रत करें इसमें योगदान के लिए प्रत्येक भूतपूर्व सैनिक से आह्वान किया और कहा की इस तरह के आयोजन और सेमिनार सैनिकों व् भूतपूर्व सैनिकों का मनोबल बढ़ाते हैं जो आज के सन्दर्भ में बहुत ही जरूरी है/ कर्नल डॉ जे पी सिंह जो स्प्रिचैल लाइफ फाउंडेशन परामर्श के डायरेक्टर हैं उन्होंने अपने भाषण में भूतपूर्व सैनिकों की मूलभूत समस्याओं जैसे ई सी एच एस स्वास्थ योजना की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित कराते हुए पर्याप्त धन की व्यवस्था करने पर जोर दिया/ उन्होंने कहा कि ई सी एच एस में दवाइयां न मिलने के कारण और ई सी एच एस पैनल अस्पतालों की बेरुखी की वजह से भूतपूर्व सैनिकों में काफी रोष है जिसका मुख्य कारण पर्याप्त धन का आभाव है/ उन्होंने आह्वान किया कि आज भी भूतपूर्व सैनिकों में देश के प्रति वो ही जज्बा है जो किसी समय अपनी सेवा के दौरान देश पर मर मिटने के लिए तत्पर रहते थे/ स्वास्थ किसी भी नागरिक का एक मौलिक अधिकार है तो फिर हमारे दूर दराज़ के भूतपूर्व सैनिक ई सी एच एस जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित क्यों? कर्नल डॉ आई वी एस गहलोत जो ई सी एच एस के मेडिकल डायरेक्टर रह चुके हैं उन्होंने ई सी एच एस के बारे में भूतपूर्व सैनिकों को नवीनतम स्मार्ट कार्ड योजना के बारे में अवगत कराया और उनको भरोसा दिलाया कि ई सी एच एस की सेवाओं में सुधर होगा जिसके लिए एम् डी दिन रात प्रयासरत हैं और निरंतर सरकार के संपर्क में हैं/ अंत में श्री रण वियजय सिंह, इस पी देहात जो स्वयं एक सेना के भूतपूर्व अधिकारी के बेटे है उन्होंने भी अपने भाषण में भूतपूर्व सैनिकों को भरोसा दिलाया कि वो भी अपने चैनल से सरकार को सैनिकों की ई सी एच एस समस्याओं से अवगत कराएँगे और उनकी कोशिश होगी कि प्रदेश में सैनिकों को पूरा सम्मान मिले और ई सी एच एस सुविधा केंद्र काम से काम हर जिले तक पहुंचे/ प्रोग्राम के समापन में डॉ ईश्वर सिंह जो परामर्श के सेह संस्थापक हैं उन्होंने सभी आये हुए अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया और इस सेमिनार बेहतरीन कल के लिए ई सी एच एस में आने और भाग लेने के लिए भूतपूर्व सैनिकों, वीर नारियों और युद्ध विजेताओं का धन्यवाद किया और एलान किया कि इस तरह के सेमिनार जो सैनिकों कि मूलभूत समस्याओं से सम्बंधित हैं हमारी संस्था समय समय पर भूतपूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए निरंतर करती रहेगी/

Kapil Choudhary

Leave a Reply

%d bloggers like this: