आज से खत्म हो जाएगा इस बैंक का वजूद।

 आज से खत्म हो जाएगा इस बैंक का वजूद।

लक्ष्मी विलास बैंक पर 17 नवंबर को एक महीने के लिए मोरेटोरियम लगाया गया था. लेकिन ठीक 10 दिन के बाद 27 नवंबर को इस बैंक का नामोनिशान मिट जाएगा. केंद्र सरकार ने संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के DBS इंडिया में विलय को मंजूरी दे दी है. जिसके तहत लक्ष्मी विलास बैंक का अस्तित्व 27 नवंबर को खत्म हो जाएगा।
27 नवंबर को लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर एक्सचेंज से डीलिस्ट हो जाएंगे. लक्ष्मी विलास बैंक के सभी ब्रांच का नाम बदलकर DBS इंडिया हो जाएगा. 94 साल पुराने लक्ष्मी विलास बैंक का नाम खत्म हो जाएगा और साथ ही इसकी इक्विटी भी पूरी तरह खत्म हो जाएगी. अब इस बैंक का पूरा डिपॉजिट DBS India के पास चला जाएगा।
लक्ष्मी विलास बैंक की शुरुआत तमिलनाडु के करूर में कुछ कारोबारियों ने मिलकर की थी. शुरुआत में यह बैंक छोटे बिजनेस को लोन देता था, और फिर धीरे-धीरे बैंक का दायरा बढ़ा. बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक 7 लोगों ने मिलकर इस बैंक की शुरुआत की थी।
इंडियन कंपनीज एक्ट 1913 के तहत 3 नवंबर 1926 से लक्ष्मी विलास बैंक ने बैंक की तरह काम करना शुरू किया था. उसके बाद 10 नवंबर 1926 को बिजनेस शुरू करने का सर्टिफिकेट मिला था. लक्ष्मी विलास बैंक को 19 जून 1958 को RBI से बैंकिंग लाइसेंस मिला था और 11 अगस्त 1958 को यह शेड्यूल कमर्शियल बैंक बन गया।

Kapil Choudhary

Leave a Reply

%d bloggers like this: