Breaking News
Home / ताज़ा खबरें / अधिवक्ता एवं डीड राइटर वेल्फेयर एसोसिएशन चुनाव।

अधिवक्ता एवं डीड राइटर वेल्फेयर एसोसिएशन चुनाव।

ग्रेटर नॉएडा : अधिवक्ता एवं डीड राइटर्स वेल्फेयर एसोसिएशन के वार्षिक चुनाव की तिथी तय हो गई है। 6 नवम्बर को चुनाव होना है,और उसी दिन शाम को परिणाम की घोषणा हो जानी है। चार पदो के लिये चुनाव होना है, अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव और कोषाध्यक्ष । इनमे से सचिव पद पर सूरण्त शर्मा और अनुराग ने नामांकन किया था,परन्तु अनुराग के तय समय सीमा के भीतर नाम वापस लेने से सूरण्त शर्मा, सचिव पद पर निर्विरोध निर्वाचित हो गये हैं । कोषाध्यक्ष पद पर भी निर्विरोध निर्वाचन की उम्मीद थी,पर इस पद पर अब श्री सुभाष चंद निगम और रजनीश नेताजी के बीच मुकाबला है। उपाध्यक्ष पद पर पूर्व उपाध्यक्ष पवन भाटी और पूर्व मे उपाध्यक्ष का चुनाव लड़ चुके रविन्दर भाटी के बीच मुकाबला होना है।
अध्यक्ष पद पर तमाम अटकलो के बावजूद तीनो प्रत्याशी मैदान मे टिके हुए है । प्रत्याशी सुमित शर्मा, जितेंद्र भाटी, एवं रोहतास नागर । केम्पस चुनाव के इतिहास मे यह पहला मौका है की अध्यक्ष पद के लिये 3 प्रत्याशी मैदान मे हैं। इस बार 38 नये डीड राइटर और ऐडवोकेट को मतदान का अधिकार प्राप्त हुआ है और केम्पस मे कुल वोटो का आँकड़ा 300 के आस पास पहुँच गया है । तीन प्रत्याशी होने से,जो भी प्रत्याशी 130 के आस पास वोट प्राप्त कर लेगा,वो जीत सकता है। चुनाव को सुचारु रूप से कराने के लिये पांच चुनाव अधिकारियो की एक टीम बनाई गई है, जिनमे जितेन्द्र नागर जी, अजय शर्मा जी, अरविंद भाटी जी, भूरे खां जी और जयवीर भाटी जी शामिल हैं। इस बार नामांकन फीस पर भी विवाद हुआ था जोकि पहले बहुत अधिक तय कर दी गई थी, पर फ़िर विजय शर्मा, प्रोफेसर साहब और अन्य अधिवक्ताओ व डीड राइटर्स के भारी विरोध के चलते जन भावना का सम्मान करते हुए बढी नामांकन फीस वापस ले ली गई,और पूर्व वर्ष की भान्ति ही फीस रही।

चुनाव मे इस बार भारी मात्रा मे धन बल का उपयोग हो रहा है। कोई आचार संहिता ना होने से, धन के खर्च पर कोई रोक नही है और तीनो अध्यक्ष पद प्रत्याशी औसतन 3 से 4,लाख रुपए प्रत्येक खर्च कर चुका है। खर्च के मामले मे प्रत्याशी सुमित शर्मा का आँकड़ा तो छ लाख रुपए को पार कर चुका है। मतदाता तो मतदाता उनके कारिंदे भी, इस स्तिथि का भरपूर फायदा उठा रहे है और सबका खा रहे हैं और सबकी पी रहे है। हाँ, कुछ मतदाता ऐसे है, जो जिन उम्मीदवारो से कमिटमेंट कर चुके, उनके सिवाय किसी अन्य की तरफ नजर नही डाल रहे है, पर ऐसे मतदाताओ की संख्या बेहद कम है। शनिवार को केम्पस मे लोग अपेक्षाकृत कम दिखाई देते हैं, पर इस बार मुफ्त शराब और प्रसाद रुपी समोसे और लड्डुओ का आकर्षण कहिये या चुनाव की सरगर्मि, केम्पस मे इस शनिवार को फुल attendence थी। प्रत्याशी सुमित शर्मा का सोमवार,मंगलवार और बुधवार तीनो दिनो के भन्डारे के लिये टेन्ट लग गया है, बाकी प्रत्याशी भी शायद पीछे नही रहेंगे। चुनाव मे अब बस १ दिन बाकी हैं, पर चुनाव जीतकर वो करेंगे क्या, इस विषय पर सुमित शर्मा के अलावा किसी अन्य प्रत्याशी का कोई अजेंडा नही है। सुमित शर्मा ने फ़िर एक बार अपना अजेंडा स्पश्ट करते हुए, तय समय सीमा के अन्दर केम्पस मे विकास कार्यो को कराने का अपना अजेंडा स्पश्ट किया है,जोकि मोटामोटी निम्न प्रकार है-

1 ऐडवोकेट का तो रजिस्टर होते ही 5 लाख का बीमा हो जाता है, पर डीड राइटर का कोई बीमा नही होता, इस बात को मद्देनजर रखते हुए, जिन भी ऐडवोकेट और डीड राइटर का स्टेट बैंक मे अकाउंट होगा, उनका मात्र 500 रुपए के सालाना प्रीमियम पर 10 लाख रुपए का टर्मिनल जीवन बीमा और अन्य बैंको में मात्र 12 रुपए सालाना के प्रीमियम पर 2 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा तथा 330 रुपए सालाना के प्रीमियम पर 2 लाख रुपए का जीवन बीमा। यानी पूरे साल मे मात्र 942 रुपए खर्च करने पर व्यक्ति को 14 लाख रुपये तक की सुरक्षा मिल जायेगी। केम्पस के हर व्यक्ति, जो अभी तक इन योजनाओ को या तो जानते नही, या उनका लाभ नही ले पा रहे, उन्हे इन योजनाएं के अन्तर्गत लाकर सुरक्षित किया जायेगा। और यह काम जीत प्राप्त करने के एक माह के अंदर पूरा कर लिया जायेगा क्योंकि ऐसी आर्थिक सुरक्षा, हर व्यक्ति के लिये ,चाहे वो अमीर हो या गरीब, बहुत जरुरी है।

  • ये बार 19 साल पूरानी बार है, पर आज तक भी ,बार का छोटा सा ही सही,,कोई ऑफ़िस नही है, इस बाबत, जहाँ पहले गोल बिल्डिंग में रजिस्ट्री होती थी, उसके लिये एआईजी साहब, रजिस्ट्रार साहब एवं अन्य पदाधिकारियों से बात करके,उसे बार रुम के रूप मे विकसित करने का प्रयास
    3. केम्पस मे एक लाईब्रेरि की स्थापना, जिसमे स्टाम्प ऐक्ट भूमि अधिनियम प्रॉपर्टी ऐक्ट जैसी जरुरत की पुस्तके सभी सरकारी आदेशो और सर्कुलर की कोपिया और अन्य पत्र पत्रिकाए उप्लब्ध रहे तथा केम्पस मे नियमित रूप से दो अखबार लगाये जायेंगे, ताकी खाली समय मे सभी साथी, ज्ञान ध्यान की बाते सीखे और सिखाए और वैसी ही स्वस्थ चर्चा और परम्पराओ का निर्माण केम्पस के हित मे किया जा सके,
    4, GNIDA और YEIDA के ऑफ़िस मे ऐडवोकेट और डीड राइटर्स के प्रवेश कई बार प्रतिबंधित कर दिये जाते रहे हैं,उनके साथ दुर्व्यवहार की खबरें भी सुनने मे आती रहती हैं। जीतने के बाद,केम्पस के कुछ वरिष्ठ और सम्मानित साथियों की टीम के साथ, दोनो CEO से मिलकर ये सूणिसचीत किया जायेगा की सुबह साढ़े नौ बजे से शाम छ बजे तक,,दोनो प्राधिकरण मे, ऐडवोकेट और डीड राइटर्स की बेरोक टोक एन्ट्री हो और उनके द्वारा लाये गये काम अटका कर ना रखे जांय,बल्कि प्राथमिकता पर किये जांय, साथ ही उनके मान सम्मान का पूरा ध्यान रखा जाय।
    5, हम लोग जब तक बीमार नही होते तब तक अपने चेक अप नही कराते, तो हम गम्भीर रूप से बीमार ही ना पडे और समय समय पर हमारे शरीर के चेक अप होते रहे,,इसके लिये आस पास के सभी अस्पतालो से बात करके,हर तीन महीने पर एक फ़्री स्वास्थ्य केम्प, केम्पस मे लग्वाना ही है।पहला केम्प, साथियो के आशीर्वाद से दिसंबर माह मे ही लगवाने की कोशिश रहेगी।
    6,हमारे केम्पस को दर्शनीय करने की जरुरत है, जाने कब से केम्पस की दिवारो की पूताई तक नही हूई है। CSR फण्ड जुटा कर पूरे केम्पस मे टाइलईन्ग और पुताइ करा कर, केम्पस का सौंदर्यकरण किया जायेगा। यह बडा काम है,इसलिये इस काम को पूरे कार्यकाल के दौरान अंजाम दिया जायेगा,,पर कुछ भी हो,ये काम कराया अवश्य जायेगा।
    7, केम्पस के अन्दर पानी और सौचालय की बेहतर व्यवस्था, व अन्य वो सभी कार्य जिन्हे कराने की लोगो द्वारा आवाज उठेगी, सभी साथियो के परामर्श पर और सभी साथियों के सहयोग से और सबको साथ लेकर कराये जायेंगे।
    तीनो प्रत्याशी अपनी अपनी तरह से जितनी जिससे हो रही है, मेहनत कर रहे हैं, मतदाताओ से मिल रहे है, यारी रिश्तेदारी के कनेक्शन ढूंढ्कर, लोगो को अपने पक्ष मे किया जा रहा है, फोन किये और करवाये जा रहे है, पर मतदाता अब बेहद जागरूक हो गये हैं, और वो आश्वस्त सबको कर रहे हैं, पर वो चुनाव के वक्त ही सिर्फ घोंटे छुए जाने वाले जैसे आडम्बरो और इस तरह की अन्य चीजो का आनन्द तो लेते है,पर वोट उसको देंगे जो सरल स्वभाव का हो,जिसकी टीम मजबूत हो और जिसका केम्पस के विकास का स्पश्ट अजेंडा हो। लोग अब इस बात से तंग आ चुके है की अब से पहले एक दो अध्यक्षो की बात छोड दी जाय तो बाकी आदमी चुनाव के समय लल्लो चप्पो करता है, सब तरह के प्रपंच रचता है, लोग उसके बहकावे मे आते है, उसे जिताते हैं, और जीतते ही बन्दा गायब की तू कौन और मै कौन। लोगो से बात करने पर और उनका मन टटोलने पर ये बात स्पश्ट रूप से सामने आई की ,इस बार लोग उस व्यक्ति को वोट करेंगे, जो सीधा हो,सरल हो,सदैव उप्लब्ध हो और जिसका केम्पस के विकास का क्लियर कट ऐजेंडा हो। बाकी 6 तारिख की शाम को सब कुछ क्लियर हो ही जायेगा।

Check Also

करवाचौथ मनाना है, ट्रैफिक नियम को अपनाना है

नोएडा( कपिल कुमार)जहा एक तरफ भारतवर्ष में दुर्घटना रुकती नही, वही दूसरी तरफ लोग यातायात …

Leave a Reply

%d bloggers like this: