प्रोजेक्टों को समय से पूरा न करने वाली फर्माें पर लगेगी पेनल्टी, ब्लैक लिस्ट भी होंगी

  • ग्रेनो प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने समीक्षा बैठक कर दिए निर्देश
  • जिन कार्यों के टेंडर हो गए हैं, उनको 25 मई तक अवार्ड करने का दिया लक्ष्य
  • जिन कार्यों के टेंडर अभी तक नहीं निकले हैं, उनके लिए अंतिम समयसीमा 31 मई तक
  • कार्याें में लापरवाही पर दो एई व मैनेजर को प्रतिकूल प्रविष्टि, एसएम को अंतिम चेतावनी

ग्रेटर नोएडा। कपिल चौधरी

ग्रेटर नोएडा में कार्यों का टेंडर प्राप्त कर समय से पूरा न करने वाली फर्मों पर प्राधिकरण शीघ्र ही तगड़ी पेनल्टी लगाएगा। ब्लैक लिस्ट करने की भी कार्रवाई की जाएगी। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने कैंप ऑफिस में बृहस्पतिवार को परियोजना विभाग की समीक्षा बैठक में ऐसी फार्म पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
सीईओ रितु माहेश्वरी ने निर्माण व रखरखाव कार्यों की समीक्षा करते हुए सभी वर्क सर्किल प्रभारियों से कहा कि जिन कार्यों को पूरा करने की समयसीमा पूरी हो चुकी है और वे फिर भी अधूरे हैं। उनके ठेकेदारों पर तगड़ी पेेनल्टी लगाई जाए और फिर भी सुधार न हो तो उनको ब्लैक लिस्ट भी करें। रितु माहेश्वरी ने विकास कार्यों की वर्क सर्किलवार समीक्षा की। वर्क सर्किल 3 व 8 की तरफ से कार्यों में अधिक लापरवाही मिलने पर जूनियर इंजीनियर व प्रबंधक को प्रतिकूल प्रविष्टि देने और वरिष्ठ प्रबंधक को अंतिम चेतावनी जारी करने के निर्देश महाप्रबंधक को दिए। सीईओ ने कहा कि जिन कार्यों के लिए निविदा जारी हो चुकी है, उन टेंडरों को 25 मई तक अवार्ड कर दिया जाए और जिन कार्यों के लिए टेंडर अभी जारी नहीं हुए हैं, उनके टेंडर 31 मई तक जारी हो जाने चाहिए। इन कार्यों की फिर से समीक्षा की जाएगी। उस दौरान जिस वर्क सर्किल का कार्य धीमा पाया गया, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। समीक्षा के दौरान यह बात भी सामने आई कि टेंडर प्रक्रिया को फाइनल कराने में कमेटी से अप्रूवल मिलने में अधिक समय लग रहा है। समय से कमेटी की बैठक ही नहीं हो पाती। इस पर सीईओ ने जीएम प्रोजेक्ट से कमेटी की नियमित बैठक के लिए समय निर्धारित करने के निर्देश दिए, ताकि फाइलें समय से अप्रूव्ड हो सकें। सीईओ ने किसानों को छह फीसदी आवासीय भूखंड देने के लिए वर्क सर्किल की तरफ से विकास कार्य कराने की समयसारिणी बनाकर देने को कहा है। उन्होंने सड़कों के किनारे खाली जगहों पर हरी-भरी घास लगवाने के निर्देश दिए है। ग्रेटर नोएडा के गावों में चिंहित 243 तालाबों, ऑपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत आने वाले 118 स्कूलों व सामुदायिक केंद्रों के निर्माण में देरी करने पर कड़ी फटकार लगाई। स्मार्ट विलेज के फेज वन के कार्यों की धीमी गति व दूसरे फेज के गावों का कार्य शुरू करने में लापरवाही पर भी नाराजगी जताई। सीईओ ने वेंडिंग जोन व खेल के मैदानों का कार्य भी तेज करने के निर्देश दिए। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के गौड़ चौक पर ट्रैफिक की समस्या का समाधान करने के लिए अंडरपास की निविदा फाइनल कर काम शुरू कराने के निर्देश दिए। ग्रेटर नोएडा वेस्ट में साइट ऑफिस को इस माह चालू करने के निर्देश दिए। सीईओ ने रैन बसेरा व आश्रय स्थल को भी शीघ्र पूरा कर शुरू कराने को कहा है। औद्योगिक सेक्टरों में विकास कार्यों को तेजी से पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने पौवारी में निर्माणाधीन गोशाला और अस्तौली में लैंडफिल साइट तक जाने के लिए संपर्क मार्ग का काम जल्द पूरा कराने को कहा हैै। सड़कों को चमकाने के साथ ही दीवारों पर किसी तरह का विज्ञापन दिखने पर वर्क सर्किल के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दी। सीईओ ने दो सप्ताह बाद फिर से विजिट कर इन कार्यों का जायजा लेने के संकेत दिए। प्राधिकरण की तरफ से सभी कार्य स्थलों पर एक सप्ताह में बोर्ड लगाने के निर्देश दिए हैं। साइनेज बोर्ड, रोड मार्किंग, कैट आई आदि लगाने को भी कहा है। एलजी के सामने हिंडन पर बन रहे नए पुल को जोड़ने के लिए मौजूदा फर्म को ब्लैक लिस्ट करने व नए सिरे से टेंडर करने के निर्देश दिए। समीक्षा बैठक के दौरान एसीईओ अमनदीप डुली, ओएसडी विशु राजा समेत सभी वर्क सर्किल प्रभारी मौजूद रहे।

Related posts

Leave a Comment